अगस्ता मामले में आए फैसले का छग में असर

रायपुर : छत्तीसगढ़ के चर्चित अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर घोटाले में रमन सरकार को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट की ओर से एसआईटी जांच की जरूरत नहीं होने के फैसले के बाद चुनाव में सरकार को फायदे की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा रहा है। इधर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद याचिकाकर्ता इस मामले में अब भी दावे कर रहे हैं। वहीं सीबीआई और ईडी में नए सिरे से शिकायतों की तैयारी हो रही हैै।पूर्व मेें कथित तौर पर हेलीकाप्टर खरीदी घोटाले को सरकार के खिलाफ बड़ा मामला माना गया था। छत्तीसगढ़ से लेकर दिल्ली तक इस मामले में करवाई हुई। वहीं राजनीतिक तौर पर मामला गरमाया। इस मुद्दे पर अब चुनाव में विपक्ष के आरोपों के बाद सरकार के पास जवाब देने बड़ा आधार हो सकता है। मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सच की जीत और दूध का दूध, पानी का पानी करार दिया है।राजनीतिक तौर पर हेलीकाप्टर खरीद मामले से पनामा पेपर्स मामले को भी जोड़ा गया था। सरकार इसे विपक्ष की साजिश के तौर पर प्रचारित कर सकती है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर चुनाव में सरकार अब खुद को पाक साफ बताकर विपक्ष की ओर से बदनाम करने की कोशिशों को उछालकर घेरेबंदी कर सकती है। हालांकि इस मामले के हाईप्रोफाईल होने के बाद नए सिरे से लगातार कई तरह के तथ्य सामने आते रहे। सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ताओं ने एसआईटी के जरिए जांच की मांग उठाते हुए तथ्यों को पेश किया था।हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी गठन की मांग को ही आधारहीन माना है। ऐसी स्थिति में अब विपक्ष को भी अपनी रणनीति में बदलाव करना पड़ सकता है। अगस्ता हेलीकाप्टर खरीद के चर्चित मामले को राजनीतिक तौर पर सरकार के खिलाफ विपक्षी आरोप ही करार दिए गए थे। इस पर एक तरह से मुहर लगती नजर आ रही है।अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें। ..

(साभार :  संवाददाता  / एजेन्सी / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

About Digital Team Charcha Aaj Ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

दलितों ने किया आरएसएस के खिलाफ प्रदर्शन

अंबाला : राष्ट्रीय स्वयंसेवक (आरएसएस) के होर्डिंग-बैनरों में वाल्मीकि और संत रविदास के खिलाफ कथित ...