भागवत को स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है तो कमांडो सुरक्षा क्यों : मायावती

बहुजन समाज पार्टीलखनऊ उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सेना को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान की निंदा करते हुए मंगलवार को कहा कि उन्हें अपने स्वयंसेवकों पर इतना भरोसा है, तो तो सरकारी खर्च पर उन्होंने कमांडो सुरक्षा क्यों ले रखी है। बसपा प्रमुख ने एक बयान जारी कर कहा, “मोहन भागवत को अपने मिलिटेंट स्वयंसेवकों पर इतना ज्यादा भरोसा है, तो वह अपनी सुरक्षा के लिए सरकारी खर्च पर विशेष कमांडो क्यों ले रखे हैं?”
यह भी पढ़ें : यूपी में अब नहीं होगी जन्माष्टमी की छुट्टी, जारी हुआ साल 2018 का अवकाश कैलेंडर
मायावती ने कहा कि ऐसे समय में, जब सेना को विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, मोहन भागवत का बयान सेना के मनोबल को गिराने वाला है। इसकी इजाजत उन्हें नहीं दी जा सकती।
उन्होंने आरएसएस प्रमुख से अपने बयानबाजी के लिए देश से मांफी मांगने को कहा।
मायावती ने कहा कि आरएसएस अब सामाजिक संगठन न रहकर राजनीतिक संगठन में तब्दील होता जा रहा है। उनके स्वयंसेवक सामाजिक सेवा को ताक पर रखकर पूरी तरह से भाजपा के लिए चुनावी राजनीति करने में ही व्यस्त नजर आते हैं।
यह भी पढ़ें : बुजुर्गों के लिए ‘प्यार की पाठशाला’ बना मोटिवेजर्स क्लब
गौरतलब है कि आरएसएस प्रमुख ने स्वयंसेवकों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था, “हम सैन्य संगठन नहीं हैं, मगर सेना जैसा अनुशासन हमारे अंदर है। अगर देश को जरूरत पड़े और देश का संविधान, कानून कहे तो सेना तैयार करने में छह-सात महीने लग जाएंगे। संघ के स्वयंसेवकों को लेंगे तो तीन दिन में तैयार हो जाएंगे। ये हमारी क्षमता है।”

..

(साभार :  संवाददाता  / एजेन्सी / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

About Digital Team Charcha Aaj Ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

आखिर कौन हैं उपेंद्र शुक्ला, जो बनेंगे योगी आदित्यनाथ के ‘उत्तराधिकारी’

लखनऊ। साल 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर की लोकसभा सीट से सांसद पद पर इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद से गोरखपुर के सांसद का पद खाली है। अब इस सीट के लिए उपचुनाव की प्रक्रिया की जा रही है और भाजपा ने इस सीट से योगी का पद संभालने की ज़िम्मेदारी उपेंद्र दत्त शुक्ला को सौंपी है।