पहले के मुकाबले और ज्यादा मजबूत होगी अमेरिकी सेना

वाशिंगटन। चीन व रूस से बढ़ते खतरे का हवाला देते हुए पेंटागन ने 2019 के सैन्य खर्च में अत्यधिक बढ़ोतरी के लिए कहा है। पेंटागन ने कांग्रेस से 686 अरब डॉलर की मंजूरी देने का आग्रह किया है, जो कि देश के इतिहास में सबसे बड़े बजट में से एक है।
द्वितीय विश्वयुद्धकालीन बम हटाने के बाद लंदन हवाईअड्डा फिर खुला
अमेरिकी सेना
सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को इस प्रस्ताव को प्रस्तुत करते हुए कहा कि अमेरिका सेना पहले के मुकाबले और ज्यादा मजबूत होगी व उसके पास सभी तरह के हथियार मौजूद होंगे।
रॉब पोर्टर से संबंधित सवालों का जवाब देने से व्हाइट हाउस का इनकार
पेंटागन के 686 अरब डॉलर के बजट में 2017 के मुकाबले 80 अरब डॉलर की वृद्धि है। पेंटागन ने कहा कि इसका प्रमुख मकसद रूस व चीन का मुकाबला करना है।
बजट प्रस्ताव का खुलासा करते हुए सोमवार को अंडर सेक्रेटरी ऑफ डिफेंस डेविड एल. नॉरक्यूविस्ट ने संवाददाताओं से कहा, “अमेरिका की सुरक्षा व समृद्धि के लिए आतंकवाद नहीं, बल्कि बड़ी शक्तियों की प्रतिस्पर्धा प्रमुख चुनौती के तौर पर उभरी है।”
बजट के प्रस्ताव में कहा गया है, “यह स्पष्ट है कि चीन व रूस अपने सत्तावादी मॉडल के साथ अपने अनुरूप दुनिया बनाना चाहते हैं और दूसरे राष्ट्रों के आर्थिक, कूटनीतिक व सुरक्षा फैसलों पर वीटो अधिकार प्राप्त करना चाहते हैं।”
देखें वीडियो :-

..

(साभार :  संवाददाता  / एजेन्सी / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

About Digital Team Charcha Aaj Ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

मर्केल ने शरणार्थियों के मुद्दे पर किया एकजुटता का आह्वान

बर्लिन। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने यूरोपियन यूनियन (ईयू) के देशों के बीच शरणार्थियों की संख्या के और अधिक समान पुनर्वितरण का आह्वान किया है। पाकिस्तान के आतंकरोधी कदमों से संतुष्ट नहीं ‘अमेरिका’ एंजेला मर्केल