9 दिन – 9 रत्न: नईदुनिया सीरीज में जानें किस व्यक्ति को धारण करना चाहिए कौन-सा रत्न

मल्टीमीडिया डेस्क। जितने भी रत्न या उपरत्न है वे सब किसी न किसी प्रकार के पत्थर है। ये पारदर्शी, अपारदर्शी, सघन घनत्व या विरल घनत्व के विभिन्न रंगों के या सादे होते हैं। इन पत्थरों को रत्न कहा जाता है और ये सभी रत्न किसी न किसी रासायनिक पदार्थों के किसी खास आनुपातिक में मिलने से बने हैं।

अाज हम आपको बताने जा रहे हैं किस ग्रह को बलशाली करने के लिए कौन सा रत्न पहनने की सलाह दी जाती है और उसे किस दिन पहनना चाहिए। इस सीरीज में हम आपको बताएंगे रत्नों के विज्ञान के बारे में…

सूर्य को शक्तिशाली बनाने में माणिक्य का परामर्श दिया जाता है। इसे अनामिका अंगुली में रविवार के दिन धारण करना चाहिए।

चंद्र को शक्तिशाली बनाने के लिए मोती या मून स्टोन पहना जाता है। इसे शुक्ल-पक्ष के सोमवार को रोहिणी नक्षत्र में धारण करना चाहिए।

मंगल को बलशाली करने के लिए मूंगा पहनने की सलाह दी जाती है। मंगलवार को अनुराधा नक्षत्र में सूर्योदय से 1 घंटे बाद तक पहनना चाहिए।

बुध यदि किसी की कुंडली में कमजोर है, तो उसके पन्ना पहनने के सलाह दी जाती है। इसे बुधवार को प्रात:काल उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में धारण करना चाहिए।

गुरु के लिए पुखराज को तर्जनी अंगुली में गुरु-पुष्य योग में शाम के समय पहनने का विधान है।

About Lavlesh Pandey

x

Check Also

एकादशी के दिन नहीं खानी चाहिए ये चीजें, जानें क्या है कारण

मल्टीमीडिया डेस्क। एकादशी व्रत में भगवान विष्णु की पूजा का विधान है। एकादशी के दिन एक ...